UPPSC Prelims Mock Test Series 2017
Drishti

  उत्तर-प्रदेश लोक सेवा आयोग की प्रारंभिक परीक्षा हेतु - 2 मॉक टेस्ट (सामान्य अध्ययन – प्रथम प्रश्नपत्र),आपके ही शहर में आयोजित

प्रारंभिक परीक्षा 2018

सिविल सेवा परीक्षा में सामान्य अध्ययन के महत्त्व से हम सभी अवगत हैं। प्रारंभिक परीक्षा में तो बिना सामान्य अध्ययन पर मज़बूत पकड़ बनाए सफल होना असंभव है क्योंकि अब सीसैट को क्वालीफाइंग कर दिया गया है, इसलिये प्रारंभिक परीक्षा की कट-ऑफ का निर्धारण सिर्फ सामान्य अध्ययन के आधार पर ही होता है। चूँकि सामान्य अध्ययन का पाठ्यक्रम इतना अधिक विस्तृत है कि इस बात का सटीक अनुमान लगा पाना बहुत मुश्किल हो जाता है कि किस खंड और अध्याय से ज़्यादा प्रश्न पूछे जाएंगे और किससे कम, ऐसे में परीक्षा की परिवर्तनशील प्रवृति इस कार्य को और भी ज़्यादा मुश्किल बना देती है।

परीक्षा के वर्तमान पाठ्यक्रम को देखें तो एक बात तो बिल्कुल स्पष्ट है कि अच्छे से तैयारी करने में लगभग डेढ़ वर्ष का समय लगता है, इसमें से एक वर्ष में प्रारंभिक परीक्षा की तैयारी अच्छे से हो सकती है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए हमने प्रारंभिक परीक्षा 2018 को लक्षित करते हुए कार्यक्रम तैयार किया है। इसके अंतर्गत प्रारंभिक परीक्षा के दोनों प्रश्नपत्रों यानी सामान्य अध्ययन और सीसैट की तैयारी कराई जाएगी। सामान्य अध्ययन प्रश्नपत्र का कार्यक्रम इस तरह से तैयार किया गया है कि प्रारंभिक परीक्षा पाठ्यक्रम से संबंधित सभी खंडों को विस्तार से कवर किया गया है। इस कार्यक्रम के पीछे हमारा मूल ध्येय- प्रत्येक दिन अभ्यास प्रश्न और उनके व्याख्या सहित उत्तरों के माध्यम से प्रारंभिक परीक्षा 2018 से पहले पूरे पाठ्यक्रम को अच्छी तरह से तैयार करवाना है। 

अगर आप नियमित रूप से इस कार्यक्रम के अनुरूप अपना शेड्यूल बनाकर अध्ययन करते हैं और रोज़ाना इसमें दिये गए अभ्यास प्रश्नों को हल करते हैं, तो हम आपको इस बात का पूरा विश्वास दिलाते हैं कि प्रारंभिक परीक्षा आपके लिये बाधा नहीं बन सकती। आप बस नियमित रूप से इस कार्यक्रम को फॉलो कीजिये।

कार्यक्रम के मुख्य बिंदु

पूर्वनियोजित कार्यक्रम के माध्यम से मार्गदर्शन 

इसके लिये अभ्यर्थियों को कम से कम एक सप्ताह पूर्व सूचित कर दिया जाएगा कि अगले एक सप्ताह में उन्हें किस विषय और किस टॉपिक से संबंधित प्रश्न पूछे जाएंगे। इस योजना से अभ्यर्थियों को यह सुविधा रहेगी कि वे उक्त विषय का अध्ययन पहले ही कर लेंगे और प्रश्नाभ्यास के माध्यम से अपनी तैयारी को धार प्रदान करेंगे।  

दैनिक अभ्यास प्रश्न 

अभ्यर्थियों की मांग व समय प्रबंधन को ध्यान में रखते हुए हमने कार्यक्रम को सरल बनाने का प्रयास किया है।  इसके लिये शुरुआत में हर दिन अभ्यास हेतु दस प्रश्न दिये जाएंगे, किन्तु जब अभ्यर्थी पूरी तरह प्रारम्भिक परीक्षा के लिये समर्पित हो जाएंगे तो प्रश्नों की संख्या में आवाश्यकतानुसार वृद्धि की जाएगी। 

सटीक व विस्तृत व्याख्या

अभ्यास हेतु दिये जाने वाले प्रश्नों के साथ उनके व्याख्यासहित उत्तर भी दिये जाएंगे ताकि प्रश्न से संबंधित अवधारणा स्पष्ट हो सके और अभ्यर्थियों में विषय की सही समझ विकसित हो।

 

विषय

अनुमानित प्रश्नों की संख्या

कार्यक्रम की अनुमानित अवधि

भारतीय इतिहास एवं  कला और   संस्कृति

800

अप्रैल- जून, 2017

भारत एवं विश्व का भूगोल

500

जुलाई- अगस्त, 2017

सामान्य विज्ञान और विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी

300

सितम्बर, 2017

भारतीय अर्थव्यवस्था

600

अक्तूबर- नवंबर, 2017

भारतीय संविधान एवं राजव्यवस्था

600

दिसंबर- जनवरी, 2018

पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी

500

फरवरी – मार्च, 2018

अभ्यर्थियों की सुविधा के लिये भारतीय इतिहास एवं कला-संस्कृति को चार भागों में बाँटा गया है- प्राचीन भारत, मध्यकालीन भारत, आधुनिक भारत और कला तथा संस्कृति।  सबसे पहले  प्राचीन भारत से संबंधित प्रश्न दिये जाएंगे।

मिशन 2018 को लगभग 55 सप्ताहों में सम्पन्न कराया जाएगा। विद्यार्थियों की सुविधा के लिये प्रत्येक आगामी सप्ताह का शेड्यूल पहले से दे दिया जाएगा। शेड्यूल इस प्रकार है:


Helpline Number : 87501 87501
To Subscribe Newsletter and Get Updates.