हिंदी साहित्य: पेन ड्राइव कोर्स
ध्यान दें:

भारत का मैप (IV): मार्च 2020

मैप आधारित प्रश्न
  • 1. ‘काली टाइगर रिज़र्व’ जो हाल ही में रेलवे लाइन के निर्माण से जुड़ी परियोजना के कारण समाचारों में था, कहाँ स्थित है?

    उत्तर : कन्नड़ ज़िला (कर्नाटक)। इस टाइगर रिज़र्व में क्षेत्र के दो महत्त्वपूर्ण संरक्षित क्षेत्र- डंडेली वन्यजीव अभयारण्य और अंशी राष्ट्रीय उद्यान शामिल हैं। ये दोनों संरक्षित क्षेत्र एक-दूसरे के लिये सन्निहित हैं तथा उस संरक्षित क्षेत्र के एकल पथ का निर्माण करते हैं जो जैविक दृष्टिकोण से संवेदनशील पश्चिमी घाटों में स्थित है।

  • 2. उस स्थल की पहचान कीजिये जहाँ सप्त पैगोडा स्थित हैं:

    उत्तर : मामल्ल्पुरम, तमिलनाडु। मामल्लपुरम जिसे महाबलीपुरम या सप्त पैगोडा भी कहा जाता है, एक शहर है जो चेन्नई से 60 किमी. दूर दक्षिण में बंगाल की खाड़ी के कोरोमंडल तट पर स्थित है। इस शहर के धार्मिक केंद्रों की स्थापना 7वीं शताब्दी के हिंदू पल्लव राजा नरसिंहवर्मन प्रथम द्वारा की गई थी जिन्हें ‘मामल्ला’ (महान योद्धा) के नाम से भी जाना जाता था, इनके नाम पर ही इस शहर का नामकरण किया गया था।

  • 3. चंद्र नव वर्ष ‘नवरेह’ भारत में किस स्थान पर मनाया जाता है?

    उत्तर : कश्मीर। ‘नवरेह’ संस्कृत शब्द ‘नव-वर्ष’ से बना है। यह चैत्र नवरात्रि के पहले दिन मनाया जाता है। इस दिन कश्मीरी पंडित चावल से भरे एक पात्र को देखते हैं जिसे धन, उर्वरता और समृद्धि का प्रतीक माना जाता है।

  • 4. उस राज्य की पहचान कीजिये जहाँ रुशिकुल्या रूकरी (प्रजनन स्थल) स्थित है:

    उत्तर : ओडिशा। भारत में ओडिशा के तट पर रुशिकुल्या रूकरी, ओलिव-रिडले के लिये सबसे बड़े सामूहिक नेस्टिंग (नीडन) स्थलों में से एक है, इसके बाद मेक्सिको और कोस्टा रिका के तटों का स्थान है। रुशिकुल्या नदी ओडिशा राज्य की प्रमुख नदियों में से एक है और यह ओडिशा के कंधमाल और गंजम ज़िलों में समग्र जलग्रहण क्षेत्र को कवर करती है। ऑलिव रिडले समुद्री कछुओं की नेस्टिंग बड़े पैमाने पर रुशिकुल्या नदी के मुहाने के निकट होती है।

  • 5. हाल ही में सीमा सड़क संगठन (BRO) ने किस राज्य में प्रोजेक्ट स्वास्तिक के तहत निर्मित बेली सस्पेंशन ब्रिज को यातायात के लिये खोला है?

    उत्तर : सिक्किम। सीमा सड़क संगठन (BRO) ने मुंशीथांग, सिक्किम में तीस्ता नदी पर बने 360 फीट लंबे बेली सस्पेंशन ब्रिज को यातायात के लिये खोल दिया है। स्वास्तिक परियोजना के तहत अक्तूबर, 2019 में इस पुल का निर्माण शुरू किया गया था। यह पुल राज्य में पर्यटन को बढ़ावा में मदद करेगा और राज्य में तैनात सशस्त्र बलों के लिये रसद की आवाजाही की सुविधा प्रदान करेगा।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close