Study Material | Mains Test Series
ध्यान दें:

भारत का मैप (I): अगस्त, 2019

Solve Below Questions
  • 1. उस राज्य की पहचान कीजिये जहाँ रातापानी वन्यजीव अभयारण्य स्थित है।

    उत्तर : मध्य प्रदेश। मध्य प्रदेश सरकार ने रातापानी वन्यजीव अभयारण्य (Ratapani Wildlife Sanctuary) को बाघ अभयारण्य/टाइगर रिज़र्व घोषित करने का निर्णय लिया है। उल्लेखनीय है कि इसी अभयारण्य के लिये राज्य को 11 साल पहले राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (National Tiger Conservation Authority- NTCA) हेतु अनुमोदन प्राप्त हुआ था। यह अभयारण्य मध्य प्रदेश के भोपाल-रायसेन वन प्रभाग में 890 वर्ग किमी. के क्षेत्रफल में फैला है। बाघ अभयारण्य घोषित करने के लिये पूरे क्षेत्र को संयुक्त रूप में जोड़ा जाएगा। रायसेन, सीहोर तथा भोपाल ज़िलों का लगभग 3,500 वर्ग किमी. का क्षेत्र बाघों के लिये आरक्षित किया गया है। 1,500 वर्ग किमी. क्षेत्र को कोर क्षेत्र के रूप में जबकि 2,000 वर्ग किमी को बफर ज़ोन के रूप में नामित किया जाएगा। 

  • 2. उस राज्य की पहचान कीजिये जहाँ के रसगुल्ले को हाल ही में भौगोलिक संकेतक टैग अर्थात् GI टैग मिला है।

    उत्तर : ओडिशा। वर्षों के विवाद के बाद हाल ही में ओडिशा की एक लोकप्रिय मिठाई रसगुल्ला को भौगोलिक संकेतक टैग (Geographical Indication Tag) प्राप्त हुआ है। रसगुल्ला को वस्तुओं के भौगोलिक संकेत (पंजीकरण और संरक्षण) अधिनियम, 1999 की धारा 16 (I) या अधिकृत धारा 17 (3)(c) के तहत भौगोलिक संकेतक (GI) टैग दिया गया है। ध्यातव्य है कि ओडिशा और पश्चिम बंगाल दोनों ही रसगुल्ला को अपने क्षेत्र की उत्पत्ति बताते हैं। लेकिन ऐतिहासिक अभिलेखों द्वारा ज्ञात होता है कि ओडिशा का रसगुल्ला विश्व प्रसिद्ध पुरी जगन्नाथ मंदिर से जुड़ा है। 15वीं शताब्दी के अंत में बलराम दास द्वारा लिखित ओडिया रामायण से भी रसगुल्ले के बारे में जानकारी मिलती है। बंगाल के रसगुल्ले की वैरायटी को वर्ष 2017 में GI टैग दिया गया था।

  • 3. उस राज्य की पहचान कीजिये जिसने ‘कान सिकुल, कान हुआन’ नामक प्रोजेक्ट की शुरुआत की है।

    उत्तर : मिज़ोरम। मिज़ोरम के लॉंग्टलाई (Lawngtlai) ज़िला प्रशासन की परियोजना ‘कान सिकुल, कान हुआन (माय स्कूल, माय होम)’ को राज्य के सभी स्कूलों एवं कॉलेजों के लिये मॉडल के रूप में स्थापित किया गया है। यह परियोजना मिज़ोरम के लॉंग्टलाई ज़िला प्रशासन द्वारा स्कूलों को पोषण उद्यान में परिवर्तित करने के लिये शुरु की गई है। इसका उद्देश्य स्कूलों में शिक्षकों, अभिभावकों तथा समुदाय के सदस्यों की मदद से बच्चों में कुपोषण की समस्या का समाधान करना है। इस परियोजना के अंतर्गत प्रत्येक स्कूल में पोषण उद्यान स्थापित करके फल एवं सब्ज़ियाँ उगाई जाती हैं ताकि पोषण की कमी की समस्या को दूर किया जा सके। 

  • 4. उस राज्य की पहचान कीजिये जिसने हाल ही में स्वचालित मल्टी-मोडल बायोमेट्रिक पहचान प्रणाली (AMBIS) को अपनाया है।

    उत्तर : महाराष्ट्र। महाराष्ट्र स्वचालित मल्टी-मोडल बायोमेट्रिक पहचान प्रणाली (Automated Multi-modal Biometric Identification System-AMBIS) को अपनाने वाला पहला राज्य बन गया है। महाराष्ट्र पुलिस द्वारा अपनाई गई AMBIS प्रणाली को शीघ्र ही देश के अन्य राज्यों के पुलिस बलों द्वारा भी अपनाया जाएगा। AMBIS इकाई में एक कंप्यूटर, एक कैमरा और आईरिस, फिंगरप्रिंट और हथेली का स्कैनर (Palm Scanner) शामिल होता है। इसमें घटना स्थल से उंगलियों के निशान प्राप्त करने के लिये एक पोर्टेबल सिस्टम भी शामिल है। चेहरे की पहचान के लिये CCTV कैमरों की प्रणाली के साथ AMBIS का एकीकरण करने के बाद पुलिस की अपराधों को रोकने की दक्षता बढ़ जाएगी, साथ ही उन अपराधियों को पकड़ना आसान हो जाएगा जिनकी उंगलियों के निशान दशकों पूर्व कागज़ पर लिये जा चुके हैं। फेशियल रिकग्निशन टेक्नोलॉजी की विशेषता के साथ AMBIS ऑटोमेटेड फ़िंगरप्रिंट आइडेंटिफिकेशन सिस्टम (AFIS) का अपडेटेड संस्करण है, जिसका इस्तेमाल भारतीय कानून प्रवर्तन एजेंसियों द्वारा उंगली और हथेली के प्रिंट की खोज के लिये किया जाता रहा है।

  • 5. आंध्र प्रदेश में उस स्थान की पहचान कीजिये जिसे स्वदेश दर्शन योजना के तहत ‘तटीय और पर्यावरण पर्यटन सर्किट’ के रूप में विकसित करने की योजना बनाई जा रही है।

    उत्तर : काकीनाडा। हाल में काकीनाडा होप आइलैंड का विकास, कोनसीमा (आंध्र प्रदेश) नामक परियोजना को वर्ल्ड क्लास कोस्टल एंड इको टूरिज्म सर्किट(World Class Coastal & Eco Tourism Circuit) नाम दिया गया है। इसे स्वदेश दर्शन योजना (Swadesh Darshan Scheme) के तहत स्वीकृत किया गया था। होप आइलैंड प्रदेश के पूर्व गोदावरी ज़िले में रेत से निर्मित लगभग 200 साल पहले बना टैडपोल के आकार का एक द्वीप है। यह कोरिंगा वन्यजीव अभयारण्य (Coringa Wildlife Sanctuary) और श्री कुक्कुटेश्वर स्वामी मंदिर (Sri Kukkuteswara Swamy Temple) से लगभग 10 किमी. की दूरी पर स्थित है।

एसएमएस अलर्ट
 

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

नोट्स देखने या बनाने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

प्रोग्रेस सूची देखने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close

आर्टिकल्स को बुकमार्क करने के लिए कृपया लॉगिन या रजिस्टर करें|

close