दृष्टि ज्यूडिशियरी का पहला फाउंडेशन बैच 11 मार्च से शुरू अभी रजिस्टर करें
ध्यान दें:

भारत का मैप: जून 2022

मैप आधारित प्रश्न
  • 1. उस वन्यजीव अभयारण्य की अवस्थिति को चिह्नित कीजिये जो दक्षिण अफ्रीका और नामीबिया से चीतों के स्थानांतरण से संबंधित अत्यधिक महत्त्वपूर्ण है।

    उत्तर : मध्य प्रदेश का कुनो राष्ट्रीय उद्यान। मध्य प्रदेश का कुनो राष्ट्रीय उद्यान सभी वन्यजीव प्रेमियों के लिये सबसे अनूठे स्थलों में से एक है। इसमें चितल, सांभर, नीलगाय, जंगली सुअर, चिंकारा और मवेशियों की स्वस्थ आबादी पाई जाती है।इस वर्ष की शुरुआत में एक बाघ को वापस रणथंभौर में भेज दिये जाने के बाद वर्तमान में इस उद्यान में बड़े मांसाहारी जानवर केवल तेंदुआ और धारीदार लकड़बग्घा ही हैं।

  • 2. मंदिर की काकतीय शैली की स्थिति को दर्शाइये जो यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल है।

    उत्तर : रामप्पा मंदिर, तेलंगाना। तेलंगाना के मुलुगु ज़िले में रामप्पा मंदिर, काकतीयों की विशिष्ट शैली प्रस्तुत करता है। इसकी नींव "सैंडबॉक्स तकनीक" से बनाई गई है। यह यूनेस्को का विश्व धरोहर स्थल है।

  • 3. सिरुमलाई हिल्स की स्थिति को चिह्नित कीजिये जहाँ राज्य सरकार एक जैव विविधता पार्क विकसित कर रही है।

    उत्तर : सिरुमलाई हिल्स, तमिलनाडु। सिरुमलाई हिल्स तमिलनाडु के डिंडीगुल ज़िले में 60,000 एकड़ में फैला हुआ है। इन्हें पूर्वी घाटों का प्रेरक माना जाता है। ये डिंडीगुल शहर से लगभग 25 किलोमीटर की दूरी पर समुद्र तल से 400 से 1,650 मीटर की ऊँचाई पर स्थित हैं। पहाड़ियाँ कई दुर्लभ और स्थानिक पौधों के भंडार के रूप में कार्य करती हैं।

  • 4. उस वन्यजीव अभयारण्य को चिह्नित कीजिये जहाँ बैम्बू ड्वेलिंग बैट की नई प्रजाति की खोज की गई है।

    उत्तर : नोंगखिल्लेम वन्यजीव अभयारण्य, मेघालय। वैज्ञानिकों द्वारा नोंगखिल्लेम वन्यजीव अभयारण्य के पास बैम्बू ड्वेलिंग बैट की एक नई प्रजाति की खोज की गई है। नोंगखिल्लेम वन्यजीव अभयारण्य मेघालय राज्य में स्थित है। बैम्बू ड्वेलिंग बैट की नई प्रजाति का नाम ग्लिस्क्रोपस मेघलायनस रखा गया है।

  • 5. उस प्रसिद्ध राष्ट्रीय उद्यान की स्थिति को चिह्नित कीजिये जो अपने खारे पानी के मगरमच्छ के लिये प्रसिद्ध है।

    उत्तर : भितरकनिका राष्ट्रीय उद्यान, उड़ीसा। यह ओडिशा के बेहतरीन जैव विविधता वाले हॉटस्पॉट में से एक है और अपने मैंग्रोव, प्रवासी पक्षियों, कछुओं, मुहाना के मगरमच्छों तथा अनगिनत खाड़ियों के लिये प्रसिद्ध है। भितरकनिका ब्राह्मणी, बैतरणी, धामरा और महानदी नदी प्रणालियों के मुहाने में स्थित है। यह ओडिशा के केंद्रपाड़ा ज़िले में है।

close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2