दृष्टि ज्यूडिशियरी का पहला फाउंडेशन बैच 11 मार्च से शुरू अभी रजिस्टर करें
ध्यान दें:

भारत का मैप: दिसंबर 2021 (I)

मैप आधारित प्रश्न
  • 1. 'पाइका विद्रोह' भारत के किस राज्य से संबंधित है?

    उत्तर : ओडिशा। पाइका (उच्चारण ‘पाइको’, शाब्दिक रूप से 'पैदल सैनिक') को 16वीं शताब्दी के बाद से ओडिशा में राजाओं द्वारा विभिन्न सामाजिक समूहों से वंशानुगत कर-मुक्त भूमि (निश-कर जागीर) और उपाधियों के बदले सैन्य सेवाएंँ प्रदान करने के लिये भर्ती किया गया वर्ग था। जब अंग्रेज़ यहाँ पहुंँचे तो उस समय ओडिशा के गजपति शासक मुकुंद देव द्वितीय किसान मिलिशिया (Peasant Militias) थे। वर्ष 2018 में सरकार ने पाइका विद्रोह की याद में स्मारक सिक्का और डाक टिकट जारी किया।

  • 2. नेताजी सुभाष चंद्र बोस के भारत आगमन के उपलक्ष्य में भारत के किस हिस्से में 'संकल्प स्मारक' का निर्माण किया गया था?

    उत्तर : अंडमान और निकोबार। नेताजी सुभाष चंद्र बोस के भारत आगमन के ठीक 78 वर्ष बाद (29 दिसंबर, 2021) एक संकल्प स्मारक राष्ट्र को समर्पित किया गया। इस स्मारक का उद्देश्य इतिहास की इस महत्त्वपूर्ण घटना को सहेज कर रखना है। अंडमान और निकोबार में बना यह स्मारक भारतीय राष्ट्रीय सेना के जवानों के संकल्प और उनके असंख्य बलिदानों को श्रद्धांजलि है।

  • 3. 'माणिक्य वंश' ने भारत के किस राज्य में शासन किया?

    उत्तर : त्रिपुरा। त्रिपुरा 13वीं शताब्दी के अंत से वर्ष 1949 में भारत सरकार के साथ विलय पर हस्ताक्षर करने तक माणिक्य वंश द्वारा शासित एक राज्य था।

  • 4. 'बुक्सा टाइगर रिज़र्व' कहाँ स्थित है?

    उत्तर : जलपाईगुड़ी, पश्चिम बंगाल। बुक्सा टाइगर रिज़र्व पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी ज़िले के अलीपुरद्वार उप-मंडल में स्थित है। इसे वर्ष 1983 में भारत के 15वें टाइगर रिज़र्व के रूप में स्थापित किया गया था। जनवरी 1992 में इसे राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया गया था। बुक्सा टाइगर रिज़र्व की उत्तरी सीमा भूटान की अंतर्राष्ट्रीय सीमा के साथ लगती है। सिंचुला पहाड़ी शृंखला बुक्सा राष्ट्रीय उद्यान के उत्तरी किनारे पर स्थित है तथा पूर्वी सीमा असम राज्य को स्पर्श करती है। टाइगर रिज़र्व में बहने वाली मुख्य नदियाँ- संकोश, रैदक, जयंती, चुर्निया, तुरतुरी, फशखवा, दीमा और नोनानी हैं।

  • 5. भारत के किस भाग में 'चिल्लई कलां' नामक सबसे कठोर शीतकाल देखा जाता है?

    उत्तर : कश्मीर। 40 दिनों की सबसे कठोर सर्दियों की अवधि में से एक, जिसे ‘चिल्लई/चिल्ले/चिल्लाई कलां' (Chillai Kalan) कहा जाता है, कश्मीर में शुरू हो गई है। यह हर साल 21 दिसंबर से 29 जनवरी तक कश्मीर में सबसे कठोर सर्दियों की अवधि होती है। ‘चिल्लाई कलां' एक फारसी शब्द है जिसका अर्थ है 'बड़ी सर्दी'। चिल्लाई कलां के बाद 20 दिन की लंबी चिल्लाई खुर्द (छोटी सर्दी) होती है जो 30 जनवरी से 18 (Chillai Baccha) तक होती है और इसके बाद 10 दिनों तक चलने वाली चिल्लाई बच्चा (बेबी कोल्ड) अवधि जो 19 फरवरी से 28 फरवरी तक होती है।

close
एसएमएस अलर्ट
Share Page
images-2
images-2