Study Material | Prelims Test Series
Drishti


 UPSC Study Material (English) for Civil Services Exam-2018  View Details

[1]

निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः

  1. समान न्याय एवं निःशुल्क विधिक सहायता।
  2. उद्योगों के प्रबंधन में कर्मकारों की भागीदारी।
  3. सहकारी समितियों का उन्नयन।
  4. पर्यावरण का संरक्षण तथा संवर्धन और वन तथा वन्य जीवों की रक्षा ।
  5. राष्ट्रीय महत्त्व के संस्मारकों, स्थानों और वस्तुओं का संरक्षण।

उपर्युक्त में से कौन-से नीति-निदेशक तत्त्वों को संविधान संशोधन के द्वारा जोड़ा गया है?

A)

केवल 1, 2 और 3

B)

केवल 1, 3 और 4

C)

केवल 1, 3 और 5

D)

केवल 1, 2, 3 और 4

Show Answer +
[2]

भारत के संविधान में काम पाने का अधिकार का प्रावधान किया गया है। इस संदर्भ में निम्नलिखित में से कौन-सा कथन सही है?

A)

यह एक मूल अधिकार है, जिसकी चर्चा संविधान के भाग-3 में की गई है।

B)

यह एक नीति-निदेशक सिद्धान्त है, जिसकी चर्चा संविधान के अनुच्छेद-46 में की गई है।

C)

महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोज़गार गारन्टी अधिनियम, 2005 (मनरेगा) एक रोज़गार गारन्टी योजना है, जो इसके अन्तर्गत आती है।

D)

यह एक गाँधीवादी सिद्धान्त है, जो संविधान के भाग-4 में प्रतिबिंबित होता है।

Show Answer +
[3]

भारतीय संविधान के अनुच्छेद-39 के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः

  1. स्त्री और पुरुष सभी नागरिकों को समान रूप से जीविका के पर्याप्त साधन प्राप्त करने का अधिकार।
  2. पुरुषों और स्त्रियों दोनों को समान कार्य के लिये समान वेतन।
  3. पुरुष और स्त्री कर्मकारों के स्वास्थ्य और शक्ति का तथा बालकों की सुकुमार अवस्था का दुरुपयोग से संरक्षण।
  4. बालकों को स्वतंत्र और गरिमामय वातावरण में स्वास्थ्य विकास के अवसर और सुविधाएँ।

उपर्युक्त में से कौन-सा/से प्रावधान/प्रावधानों को 42वें संविधान संशोधन अधिनियम, 1976 के द्वारा जोड़ा गया है?

A)

केवल 3

B)

केवल 4

C)

केवल 1 और 3

D)

केवल 2 और 4

Show Answer +
[4]

राज्य अपनी नीतियों का इस प्रकार संचालन करेगा किः
1. समुदाय के भौतिक संसाधनों का स्वामित्व और नियंत्रण इस प्रकार बँटा हो, जिससे सामूहिक हित का सर्वोत्तम रूप से साधन हो।
2. आर्थिक व्यवस्था इस प्रकार चले, जिससे धन और उत्पादन साधनों का सर्वसाधारण के लिये अहितकारी संकेन्द्रण न हो।
3. सभी कर्मकारों को निर्वाह मज़दूरी, शिष्ट जीवन स्तर और अवकाश का सम्पूर्ण उपभोग तथा सामाजिक और सांस्कृतिक अवसर उपलब्ध हो सकेगा।
4. उद्योगों के प्रबंधन में भाग लेने के लिये कर्मकारों को अवसर प्राप्त होंगे।|
भारतीय संविधान के अनुच्छेद 31(ग) उपर्युक्त में से कौन-से नीति-निदेशक तत्वों को प्रभावी बनाते हैं?

A)

 केवल 1 और 2

B)

 केवल 1, 2 और 3

C)

 केवल 1, 2 और 4

D)

 1, 2, 3 और 4

Show Answer +
[5]

निम्नलिखित युग्मों में से कौन-सा/से युग्म सही सुमेलित है/हैं?

 1. काम की न्याय संगत और मानवोचित दशाओं तथा प्रसूति सहायता उपलब्ध कराना।  अनुच्छेद-41
 2. स्वायत्त शासन की इकाइयों के रूप में कार्य करने वाली ग्राम पंचायतों का संगठन करना।  अनुच्छेद-45
 3. लोक स्वास्थ्य का सुधार करना तथा मादक पेयों तथा स्वास्थ्य के लिये हानिकारक औषधियों के उपभोग पर रोक।  अनुच्छेद-47
 4. ऐतिहासिक अभिरुचि तथा राष्ट्रीय महत्त्व के सभी स्मारकों का संरक्षण करना।  अनुच्छेद-48

नीचे दिये गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर का चयन कीजियेः

A)

केवल 3

B)

 केवल 4

C)

 केवल 1, 2 और 3

D)

 केवल 1, 3 और 4

Show Answer +
[6]

निम्नलिखित में से कौन-सा कथन सत्य है?

A)

 नीति-निदेशक सिद्धान्तों को मूल अधिकारों की अपेक्षा किसी भी दशा में प्राथमिकता नहीं दी जा सकती है।

B)

 मूल अधिकारों की अपेक्षा नीति-निदेशक सिद्धान्तों को सदैव प्राथमिकता दी जाती है।

C)

 नीति-निदेशक सिद्धान्तों की अपेक्षा मूल अधिकारों को सदैव प्राथमिकता दी जाती है।

D)

 कुछ मामलों में नीति-निदेशक सिद्धान्तों को मूल अधिकारों की अपेक्षा प्राथमिकता दी जाती है।

Show Answer +
[7]

 भारत के संविधान के भाग-4 में नागरिकों के लिये एक समान सिविल संहिता का प्रावधान किया गया है। इस संदर्भ में निम्नलिखित में से कौन-सा कथन सही है?

A)

 राज्य के लिये बाध्यकारी स्थिति है कि एक समान सिविल संहिता सब पर लागू की जानी चाहिये।

B)

 भारत के उच्चतम न्यायालय ने यह निर्देश दिया है कि दस वर्ष की अवधि में समान सिविल संहिता सभी पर लागू कर दी जाए।

C)

 संविधान का अनुच्छेद-40 भारत के समस्त राज्यक्षेत्र में नागरिकों के लिये एक समान सिविल संहिता का प्रावधान करता है।

D)

 समान सिविल संहिता संबंधी प्रावधान जम्मू और कश्मीर राज्य पर लागू नहीं होता है।

Show Answer +
[8]

 भारत के संविधान के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः
1. मूल अधिकार 
2. मूल कर्त्तव्य
3. राज्य के नीति-निदेशक तत्व
उपर्युक्त में से कौन-सा/से उपबंध राष्ट्रीय सामाजिक सहायता कार्यक्रम से संबंधित है/हैं?

A)

 केवल 1

B)

 केवल 3

C)

 केवल 1 और 3

D)

 1,2 और 3

Show Answer +
[9]

राज्य के नीति-निदेशक सिद्धांतों के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः
1. इन सिद्धान्तों में प्रौढ़ शिक्षा पर भारत का संविधान मौन है।
2. इन सिद्धान्तों की चर्चा भारत के संविधान में मूल रूप से कुल 17 अनुच्छेदों में की गई है।
उपर्युक्त में से कौन-सा/से कथन सही है/हैं?

A)

 केवल 1

B)

 केवल 2

C)

 1 और 2 दोनों

D)

 न तो 1 और न ही 2

Show Answer +
[10]

 निम्नलिखित में से कौन-सा/से सही सुमेलित है/हैं?

 1. अन्तर्राष्ट्रीय शान्ति और सुरक्षा अनुच्छेद-50 
 2. कार्यपालिका से न्यायपालिका का पृथक्करण  अनुच्छेद-51
 3. कृषि एवं पशुपालन को आधुनिक और वैज्ञानिक पद्धतियों से संगठित  अनुच्छेद-48
 4. देश के पर्यावरण का संरक्षण तथा संवर्द्धन  अनुच्छेद-49
 5. पोषाहार और जीवन स्तर को ऊँचा करना  अनुच्छेद 46

नीचे दिये गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर का चयन कीजिये:

A)

 केवल 3

B)

 केवल 1 और 2

C)

 केवल 2 और 5

D)

 केवल 4 और 5

Show Answer +
[11]

निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः
1. संविधान के अनुच्छेद-49 में प्रावधान है कि कलात्मक या ऐतिहासिक अभिरुचि वाले संस्मारक या स्थान या वस्तु का संरक्षण करना राज्य की बाध्यता होगी।
2. संविधान के अनुच्छेद-46 में प्रावधान है कि अनुसूचित जातियों, अनुसूचित जनजातियों और अन्य दुर्बल वर्गों के सामाजिक अन्याय और सभी प्रकार के शोषण से राज्य उनकी रक्षा करेगा।
राज्य के नीति-निदेशक सिद्धांतों के संदर्भ में उपर्युक्त में से कौन-सा/से कथन सही है/हैं?

A)

 केवल 1

B)

 केवल 2

C)

 1 और 2 दोनों

D)

 न तो 1 और न ही 2

Show Answer +
[12]

मूल अधिकार और राज्य के नीति निदेशक तत्त्वों के संदर्भ में निम्नलिखित मामलों/वादों पर विचार कीजियेः
1. चम्पाकम दोराइराजन वाद
2. गोलकनाथ वाद
3. केशवानन्द भारती वाद
4. मिनर्वा मिल्स वाद
5. 24वें संविधान संशोधन
6. 42वें संविधान संशोधन
कालक्रम के आधार पर सही क्रम कौन-सा होगा?

A)

 1-2-3-4-5-6

B)

 1-2-5-3-6-4

C)

 2-1-3-5-6-4

D)

 2-1-5-3-4-6

Show Answer +
[13]

निम्नलिखित में से कौन-से मामले/वाद ने भारतीय संसद को 24वें संविधान संशोधन अधिनियमित करने का अवसर दिया?

A)

 शंकरी प्रसाद वाद

B)

 गोलकनाथ वाद

C)

 केशवानन्द भारती वाद

D)

 चम्पाकम दोराइराजन वाद

Show Answer +
[14]

 ग्रेनविल ऑस्टिन के अनुसार निम्नलिखित में से कौन-सा/से भारतीय संविधान का अन्तःकरण/मूल आत्मा है/हैं?
1. मूल अधिकार
2. राज्य के नीति-निदेशक तत्त्व
3. मूल कर्त्तव्य
नीचे दिये गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर का चयन कीजियेः

A)

 केवल 1

B)

 केवल 2

C)

 केवल 1 और 2

D)

 1, 2 और 3

Show Answer +
[15]

 ‘राज्य के नीति-निदेशक सिद्धान्त एक ऐसा चेक है, जो बैंक में है, किन्तु उसका भुगतान बैंक के सुविधानुसार किया जाता है। इस सिद्धान्त के संबंध में ऐसा विचार निम्नलिखित में से किसने दिया था?

A)

 के.टी. शाह

B)

 के. एम. मुंशी

C)

 डॉ. राजेन्द्र प्रसाद

D)

 डॉ. भीमराव अम्बेडकर

Show Answer +
[16]

 निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः
1. संघ या किसी राज्य के कार्यकलाप से संबंधित सेवाओं और पदों के लिये नियुक्तियाँ करने में, अनुसूचित जातियों, अनुसूचित जनजातियों के सदस्यों के दावों का प्रशासन की दक्षता बनाए रखने की संगति के अनुसार ध्यान रखा जाएगा।
2. प्रत्येक राज्य या राज्य के भीतर प्रत्येक स्थानीय प्राधिकारी भाषाई अल्पसंख्यक-वर्गों के बालकों को शिक्षा के प्राथमिक स्तर पर मातृभाषा में शिक्षा की पर्याप्त सुविधाओं की व्यवस्था करने का प्रयास करेगा।
3. संघ का यह कर्त्तव्य होगा कि वह हिन्दी भाषा का प्रसार बढ़ाए, उसका विकास करे, जिससे वह भारत की सामाजिक संस्कृति के सभी तत्त्वों की अभिव्यक्ति का माध्यम बन सके।
4. राज्य अनुसूचित जातियों, अनुसूचित जनजातियों और अन्य दुर्बल-वर्गों के सामाजिक अन्याय और सभी प्रकार के शोषण से उनकी संरक्षा करेगा।
उपर्युक्त में से कौन-सा/से कथन राज्य के नीति-निदेशक सिद्धान्तों में शामिल है/हैं?

A)

 केवल 1

B)

 केवल 4

C)

 केवल 1 और 3

D)

 केवल 2, 3 और 4

Show Answer +
[17]

राज्य के नीति-निदेशक सिद्धान्त के उद्देश्यों के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजियेः
1. एक लोक कल्याणकारी राज्य की स्थापना करना।
2. एक धार्मिक राज्य की स्थापना करना।
3. सामाजिक-आर्थिक न्याय को सुनिश्चित करना।
4. एक पंथ-निरपेक्ष राज्य की स्थापना करना।
नीचे दिये गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर का चयन कीजियेः

A)

 केवल 1 और 3

B)

 केवल 1, 2 और 3

C)

 केवल 1, 3 और 4

D)

 1, 2, 3 और 4

Show Answer +
[18]

भारतीय संविधान में वर्णित मूल कर्त्तव्यों के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये;
1. ये केवल नागरिकों के लिये हैं।
2. नीति-निदेशक तत्त्वों के समान गैर-न्यायोचित हैं।
3. इसका उपबंध मूल संविधान में नहीं किया गया है।
उपर्युक्त में से कौन-सा/से कथन सही है/हैं?

A)

 केवल 1

B)

 केवल 3

C)

 केवल 2 और 3

D)

 1, 2 और 3

Show Answer +
[19]

 मूल कर्त्तव्यों के संदर्भ में निम्नलिखित में से कौन-सा कथन सही नहीं है?

A)

 स्वर्ण सिंह समिति के सिफारिश पर इन्हें संविधान में जोड़ा गया।

B)

 भारत के संविधान में इसे आयरलैंड के संविधान से प्रभावित होकर शामिल किया गया।

C)

 मूल रूप में दस मूल कर्त्तव्यों को भारत के संविधान में शामिल किया गया है।

D)

 86वें संविधान संशोधन अधिनियम, 2002 के द्वारा ग्यारहवाँ मूल कर्त्तव्य संविधान में जोड़ा गया।

Show Answer +
[20]

 मूल कर्त्तव्यों के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:
1. इनका वर्णन संविधान के कुल ग्यारह अनुच्छेदों में किया गया है।
2. 42वें संविधान संशोधन अधिनियम, 1976 के द्वारा इसे जनता दल की सरकार ने संविधान द्वारा जोड़ा गया है।
3. इसके क्रियान्वयन के लिये संसद विधि बना सकती है।
उपर्युक्त में से कौन-सा/से कथन सही है/हैं?

A)

 केवल 2

B)

 केवल 3

C)

 केवल 2 और 3

D)

 1, 2 और 3

Show Answer +

Helpline Number : 87501 87501
To Subscribe Newsletter and Get Updates.