टू द पॉइंट

वर्षांत समीक्षा, 2019 पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय | 13 Jun 2020 | शासन व्यवस्था

परिचय

प्रति वर्ष भारत सरकार के सभी मंत्रालय अपनी वार्षिक समीक्षा जारी करते हैं, जिनके अंतर्गत गत वर्ष में मंत्रालय द्वारा अर्जित उपलब्धियों, चुनौतियों और भावी योजनाओं के विषय में संक्षिप्त ब्यौरा दिया जाता है। प्रीलिम्स के नज़रिये से देखें तो संबंधित मंत्रालय के वार्षिक ब्यौरे में निहित सभी Terms महत्त्वपूर्ण हैं, इनके तथ्यात्मक पक्ष के साथ-साथ आप विवरणात्मक पक्ष पर विशेष ध्यान दीजिये। मुख्य परीक्षा के लिये उत्तर लेखन में मंत्रालय द्वारा दिये गए विवरण को शामिल करते हुए अपने उत्तर को और अधिक प्रमाणिक एवं प्रभावी बना सकते हैं।   

विभिन्न चक्रवाती तूफान

भारत की जलवायु पर IMD यानी भारत मौसम विज्ञान विभाग द्वारा जारी बयान के अनुसार, भारत के पूर्वी और पश्चिमी तटों पर आने वाले चक्रवातों की संख्या के मामले में वर्ष 2019 असाधारण था। वर्ष 2019 के दौरान भारतीय तटों से टकराने वाले प्रमुख चक्रवात निम्नलिखित हैं:

इससे पहले वर्ष 1893, 1926, 1930 और 1976 के दौरान हिंद महासागर में इसी तरह की चक्रवाती गतिविधियाँ दर्ज की गई थी। इन वर्षों में एक कैलंडर वर्ष के दौरान अरब सागर और बंगाल की खाड़ी में दोनों में उत्पन्न चक्रवातों की संख्या दस तक पहुँच गई थी।

उष्णकटिबंधीय चक्रवात (Tropical Cyclones)


जैमिनी उपकरण (GEMINI Device)


कृषि-मौसम विज्ञान में प्रगति पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन

(International Symposium on Advances in Agro Meteorology)

कृषि मौसम वैज्ञानिक परिसंघ (Association of Agro Meteorologists- AAM) ने ‘किसानों के जलवायु संबंधी जोखिम प्रबंधन के लिये कृषि-मौसम विज्ञान में प्रगति’ विषय पर नई दिल्ली में तीन दिवसीय (11 से13 फरवरी, 2019 तक) अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित किया।

कृषि मौसम वैज्ञानिक परिसंघ (Association of Agro Meteorologists- AAM)


राष्ट्रीय समुद्र प्रौद्योगिकी संस्थान

(National Institute of Ocean Technology-NIOT)