डेली अपडेट्स

नगर निगमों के ठोस अपशिष्ट का सतत् प्रसंस्करण | 24 Oct 2020 | जैवविविधता और पर्यावरण

प्रिलिम्स के लिये:

ठोस अपशिष्ट प्रबंधन नियम-2016, वर्मी कम्पोस्ट 

मेन्स के लिये:

नगर निगमों के ठोस अपशिष्ट का सतत प्रसंस्करण

चर्चा में क्यों?

लगातार बढ़ती जनसंख्या और शहरीकरण की तीव्र गति के साथ देश को अपशिष्ट प्रबंधन की एक बड़ी चुनौती का सामना करना पड़ रहा है। कचरे की मात्रा वर्ष 2030 तक वर्तमान 62 मिलियन टन से बढ़कर लगभग 150 मिलियन टन होने का अनुमान है।

भारत में नगरपालिका से उत्पन्न ठोस अपशिष्ट:

अपशिष्ट कचरे का अवैज्ञानिक निपटान:

वैज्ञानिक तरीके से ठोस अपशिष्ट प्रबंधन:

सिनगैस (Syngas):

नई तकनीक:

नई तकनीकी के लाभ:

निपटान उपयोगी प्लाज़्मा आर्क गैसीकरण प्रक्रिया की सीमाएँ:

स्रोत: पीआईबी