डेली अपडेट्स

फूड फोर्टिफिकेशन के माध्यम से पोषण सुरक्षा | 31 Aug 2021 | सामाजिक न्याय

यह एडिटोरियल दिनांक 30/08/2021 को ‘इंडियन एक्सप्रेस’ में प्रकाशित ‘‘Biofortified food can lead India from food security to nutrition security’’ लेख पर आधारित है। इसमें पोषण संबंधी असुरक्षा के समाधान के लिये ‘फूड फोर्टिफिकेशन’ के विचार का मूल्यांकन किया गया है और आवश्यक उपायों की चर्चा की गई है।

प्रधानमंत्री ने देश की महिलाओं और बच्चों के पोषण को सुनिश्चित करने की आवश्यकता पर बल दिया है। उन्होंने घोषणा की है कि वर्ष 2024 तक किसी भी सरकारी योजना—पीडीएसमिड-डे-मील, आंगनवाड़ी के तहत निर्धनों को उपलब्ध कराए गए चावल को ‘फोर्टिफाइड’ किया जाएगा। 

कुपोषण (विशेष रूप से संतुलित विविध आहार ग्रहण कर सकने में अक्षम समाज के निम्न-आय और कमज़ोर वर्गों में व्याप्त कुपोषण) की जटिल चुनौती से निपटने  के लिये विज्ञान का लाभ उठाना एक अच्छा हस्तक्षेप हो सकता है। हालाँकि इस कदम की अपनी चुनौतियाँ हो सकती हैं।

फूड फोर्टिफिकेशन के लाभ

भारतीय परिदृश्य

फूड फोर्टिफिकेशन के प्रतिकूल प्रभाव

आगे की राह

अभ्यास प्रश्न: फूड फोर्टिफिकेशन आबादी के एक वृहत हिस्से के पोषण स्वास्थ्य में सुधार लाने का एक उत्कृष्ट तरीका है। आलोचनात्मक परीक्षण कीजिये।