डेली अपडेट्स

जाति - आर्थिक रूपांतरण में एक बाधा | 24 Jun 2022 | भारतीय समाज

यह एडिटोरियल 23/06/2022 को ‘द हिंदू’ में प्रकाशित “The role of caste in economic transformation” लेख पर आधारित है। इसमें राष्ट्र के आर्थिक रूपांतरण में एक बाधा के रूप में जाति की उल्लेखनीय भूमिका के बारे में चर्चा की गई है।

संदर्भ

भारत कम-से-कम दो दशकों से रोज़गार-विहीन विकास के चरण में है जबकि, ग्रामीण क्षेत्रों में निर्धनता और संकट में वृद्धि हो रही है।

जाति व्यवस्था आर्थिक वृद्धि और विकास को कैसे बाधित करती है?

भारत आर्थिक रूपांतरण में क्यों पीछे रह गया?

भेदभाव को खत्म करने और आर्थिक रूपांतरण को बढ़ावा देने के लिये कौन-सी पहलें की गई हैं?

आगे की राह

अभ्यास प्रश्न: जाति केवल एक सामाजिक व्यवस्था नहीं है, बल्कि यह एक सक्रिय अभिकर्ता भी है जो आर्थिक रूपांतरण को अवरुद्ध करती है। चर्चा कीजिये।