संसद टीवी संवाद

देश देशांतर : फोन टैपिंग और प्राइवेसी | 30 Mar 2019 | शासन व्यवस्था

संदर्भ

देश में उच्च पदों पर बैठे अधिकारियों के कथित फोन टैपिंग के एक मामले में गृह मंत्रालय ने दिल्ली हाईकोर्ट को बताया कि देश की संप्रभुता औऱ अखंडता के लिये कानून प्रवर्तन एजेंसियाँ (Law Enforcement Agencies) फोन टेप करती हैं।

पृष्ठभूमि

फोन टैपिंग क्या है?

फ़ोन टैपिंग पर कानूनी प्रावधान

क्या यह निजता के अधिकार का उल्लंघन है?

उपचार (remedies)

टेलीफोन टैपिंग के संबंध में निजता का अधिकार

निष्कर्ष

टेलीग्राफ अधिनियम की धारा 5 (2) के अनुसार, यदि लोक हित या राष्ट्र हित में फोन टैपिंग की जाती है तो यह निजता के अधिकार का उल्लंघन नहीं है। इस तकनीकी युग में ऐसे भी इक्विपमेंट आ गए हैं जिनकी मदद से घर बैठे 10 किमी. की रेंज में किसी का भी फ़ोन टेप किया जा सकता है। यह संतोष की बात है कि भारत में ऐसा करना अवैध है। लेकिन इस क्षेत्र में प्राइवेट प्लेयर्स आ जाने से इसके दुरुपयोग की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता। अतः इस पर और प्रभावी नियंत्रण की ज़रूरत है। अगर ऐसा नहीं किया गया तो प्राइवेट प्लेयर्स संकट उत्पन्न कर सकते हैं और ब्लैकमेलिंग का एक साम्राज्य तैयार हो सकता है।