संसद टीवी संवाद

क्रिप्टो: चुनौतियाँ एवं संभावनाएँ | 29 Mar 2022 | भारतीय अर्थव्यवस्था

चर्चा में क्यों?

प्रमुख बिंदु 

क्रिप्टोकरेंसी क्या है?

ब्लॉकचेन तकनीक क्या है?

ब्लॉकचेन का महत्त्व:

भारत में क्रिप्टो की वर्तमान स्थिति क्या है?

क्रिप्टो के विनियमन की आवश्यकता क्यों है?

क्रिप्टो को मुद्रा के बजाय संपत्ति के रूप में क्यों वर्गीकृत किया जाना चाहिये?

क्रिप्टोकरेंसी से जुड़ी चिंताएँ क्या हैं?

आगे की राह

निष्कर्ष

क्रिप्टोकरेंसी वर्तमान वित्तीय दुनिया में हो रहे बहुत सारे तकनीकी परिवर्तनों में से एक का उदाहरण है और अब नई चुनौतियों को स्वीकार करने के साथ-साथ प्रतिभूति बाज़ार सहित मुद्रा बाज़ारों के लिये एक नए एकीकृत विनियमन की अनुमति देने का मौका है।

यह डिजिटल तकनीक में एक नई क्रांति पैदा कर सकती है जिसे भारत खोना नहीं चाहेगा, लेकिन साथ ही वह आंतरिक सुरक्षा और अन्य संबंधित मुद्दों को लेकर भी जोखिम नहीं उठा सकता है।

विगत वर्ष के प्रश्न (PYQ)

“ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी” के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिये:  (वर्ष 2020)

  1. यह एक सार्वजनिक बहीखाता है जिसका निरीक्षण हर कोई कर सकता है, लेकिन जिसे कोई एकल उपयोगकर्त्ता नियंत्रित नहीं करता है।
  2. ब्लॉकचेन का स्ट्रक्चर और डिज़ाइन ऐसा है कि इसमें मौजूद सारा डेटा क्रिप्टोकरेंसी के बारे में ही होता है।
  3. ब्लॉकचेन की बुनियादी सुविधाओं पर निर्भर एप्लीकेशन बिना किसी की अनुमति के विकसित किये जा सकते हैं।

 उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

(A) केवल 1
(B) केवल 1 और 2
(C) केवल 2
(D) केवल 1 और 3

 उत्तर: (D)