महत्त्वपूर्ण संस्थान/संगठन

भारत निर्वाचन आयोग | 19 Jul 2019 | विविध

 Last Updated: July 2022 

निर्वाचन आयोग क्या है?

भारत निर्वाचन आयोग, जिसे चुनाव आयोग के नाम से भी जाना जाता है, एक स्वायत्त संवैधानिक निकाय है जो भारत में संघ और राज्य चुनाव प्रक्रियाओं का संचालन करता है।

यह देश में लोकसभा, राज्यसभा, राज्य विधानसभाओं, राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के चुनाव का संचालन करता है।

पृष्ठभूमि

संविधान में चुनावों से संबंधित अनुच्छेद

324 चुनाव आयोग में चुनावों के लिये निहित दायित्व: अधीक्षण, निर्देशन और नियंत्रण।
325 धर्म, जाति या लिंग के आधार पर किसी भी व्यक्ति विशेष को मतदाता सूची में शामिल न करने और इनके आधार पर मतदान के लिये अयोग्य नहीं ठहराने का प्रावधान।
326 लोकसभा एवं प्रत्येक राज्य की विधानसभा के लिये निर्वाचन वयस्क मताधिकार के आधार पर होगा।
327 विधायिका द्वारा चुनाव के संबंध में संसद में कानून बनाने की शक्ति।
328 किसी राज्य के विधानमंडल को इसके चुनाव के लिये कानून बनाने की शक्ति।
329 चुनावी मामलों में अदालतों द्वारा हस्तक्षेप करने के लिये बार (BAR)

निर्वाचन आयोग की संरचना

हटाने की प्रक्रिया

निर्वाचन आयोग के कार्य

भारत निर्वाचन आयोग (Election Commission of India) का महत्त्व

चुनावी सुधारों पर निर्वाचन आयोग की सिफारिशें: 

वर्ष 2020 में, ECI के अधिकारियों और राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारियों सहित नौ कार्यसमूहों ने चुनावी सुधारों पर अपनी मसौदा सिफारिशें प्रस्तुत कीं। सिफारिशों में शामिल हैं: 

चुनाव कानून (संशोधन) विधेयक, 2021 के प्रस्ताव 

निर्वाचन आयोग के समक्ष प्रमुख चुनौतियाँ

(भारत के प्रथम चुनाव आयुक्त सुकुमार सेन थेवर्तमान में राजीव कुमार मुख्य चुनाव आयुक्त हैं तथा अनूप चंद्र पांडेय चुनाव आयुक्त के पद पर कार्यरत हैं)