डेली अपडेट्स

टोबैको एपिडेमिक | 10 Mar 2022 | शासन व्यवस्था

यह एडिटोरियल 09/03/2022 को ‘द हिंदू’ में प्रकाशित “Revive Tax Increases, Stub Out Tobacco Product Use” लेख पर आधारित है। इसमें भारत में तंबाकू सेवन से संबद्ध परिदृश्य के बारे में चर्चा की गई है।

संदर्भ

अपेक्षाकृत उच्च स्तर की सामाजिक सतर्कता के बावजूद भारत में पिछले दो वर्षों में आधे मिलियन से अधिक लोग महामारी की चपेट में आ चुके है। हालाँकि कोविड-19 ही एकमात्र स्वास्थ्य समस्या नहीं है जिसका सामना देश को करना पड़ रहा है। हमारे बीच तंबाकू का सेवन एक ‘साइलेंट किलर’ के रूप में मौजूद है जिसके चलते हर वर्ष लगभग 1.35 मिलियन भारतीयों की जान जा रही है। वैज्ञानिक अध्ययनों के अनुसार तंबाकू के सेवन से प्रतिदिन 3,500 से अधिक भारतीयों की मौत हो जाती है।

भारत में तंबाकू सेवन का परिदृश्य

तंबाकू के सेवन को नियंत्रित करने हेतु भारत द्वारा किये गए उपाय

तंबाकू पर कर लगाने/कर बढ़ाने के निहितार्थ

भारत में तंबाकू पर कराधान की स्थिति 

आगे की राह 

अभ्यास प्रश्न: ‘‘तंबाकू उत्पादों की मांग को कम करने के लिये कराधान सबसे अधिक लागत-प्रभावी उपायों में से एक है।’’ चर्चा कीजिये।