डेली अपडेट्स

सार्वभौमिक विवाह योग्य आयु का निर्धारण | 21 Aug 2020 | भारतीय समाज

इस Editorial में The Hindu, The Indian Express, Business Line आदि में प्रकाशित लेखों का विश्लेषण किया गया है। इस लेख में सार्वभौमिक विवाह योग्य आयु का निर्धारण व उससे संबंधित विभिन्न पहलुओं पर चर्चा की गई है।आवश्यकतानुसार, यथास्थान टीम दृष्टि के इनपुट भी शामिल किये गए हैं।


संदर्भ

स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य पर लालकिले की प्राचीर से प्रधानमंत्री ने घोषणा की थी कि सरकार महिलाओं के लिये विवाह की न्यूनतम आयु बढ़ाने पर विचार कर रही है, जो वर्तमान में 18 वर्ष निर्धारित है। प्रधानमंत्री ने कहा कि महिलाओं के लिये विवाह की न्यूनतम आयु सीमा पर पुनर्विचार करने हेतु एक समिति का भी गठन किया गया है। केंद्र सरकार समिति द्वारा रिपोर्ट प्रस्तुत करने के पश्चात् इस विषय पर निर्णय लेगी।

भारत में विवाह की न्यूनतम आयु खासकर महिलाओं के लिये विवाह की न्यूनतम आयु सदैव एक विवादास्पद विषय रहा है, और जब भी इस प्रकार के नियमों में परिवर्तन की बात की गई है तो सामाजिक और धार्मिक रुढ़िवादियों का कड़ा प्रतिरोध देखने को मिला है। यह समिति महिलाओं के लिये विवाह योग्य न्यूनतम आयु की समीक्षा करने के साथ ही मातृत्व स्वास्थ्य पर इसके निहितार्थों का अध्ययन करेगा तथा अपनी सिफारिशें सरकार को प्रस्तुत करेगा। बज़ट भाषण के दौरान वित्तमंत्री ने सार्वभौमिक विवाह योग्य आयु के विषय पर चर्चा करते हुए कहा कि वर्ष 1978 में पूर्ववर्ती शारदा अधिनियम द्वारा निर्धारित विवाह योग्य आयु को 14 वर्ष से बढ़ाकर 18 वर्ष कर दिया गया था। जून, 2020 को केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने मातृत्त्व की आयु, मातृ मृत्यु दर और महिलाओं के पोषण स्तर में सुधार से संबंधित मुद्दों की जाँच करने के लिये एक टास्क फोर्स का गठन किया था। सामाजिक कार्यकर्त्ता और समता पार्टी की पूर्व अध्यक्ष जया जेटली की अध्यक्षता में गठित इस टास्क फोर्स में नीति आयोग के सदस्य और कई सचिव स्तर के अधिकारी शामिल हैं।

ऐतिहासिक पृष्ठभूमि


क्या है संवैधानिक दृष्टिकोण?

विवाह योग्य आयु से संबंधित चुनौतियाँ

सामजिक मान्यताएँ

न्यूनतम आयु में परिवर्तन की आवश्यकता क्यों?

निष्कर्ष

प्रश्न- महिलाओं की विवाह योग्य आयु के निर्धारण में ऐतिहासिक पृष्ठभूमि का संक्षेप में उल्लेख करते हुए न्यूनतम विवाह योग्य आयु में परिवर्तन की आवश्यकता का विश्लेषण कीजिये।