डेली अपडेट्स

सतत विकास के लिये नवीकरणीय ऊर्जा एक बेहतर विकल्प | 03 Mar 2020 | जैव विविधता और पर्यावरण

इस Editorial में The Hindu, The Indian Express, Business Line आदि में प्रकाशित लेखों का विश्लेषण किया गया है। इस लेख में सतत विकास के लिये नवीकरणीय ऊर्जा एक बेहतर विकल्प नामक विषय पर चर्चा की गई है। आवश्यकतानुसार, यथास्थान टीम दृष्टि के इनपुट भी शामिल किये गए हैं।

संदर्भ

विकास की दौड़ में शामिल अर्थव्यवस्थाओं में भारत एक अग्रणी अर्थव्यवस्था है। इस अग्रणी अर्थव्यवस्था में ऊर्जा की उच्च मांग प्राथमिक आवश्यकता है। ऊर्जा की उच्च मांग की पूर्ति के लिये परमाणु ऊर्जा (परंपरागत ऊर्जा स्रोत का एक उदाहरण) और नवीकरणीय ऊर्जा का विकल्प उपलब्ध है। किसी परमाणु के नाभिक की ऊर्जा को ‘परमाणु ऊर्जा’ कहा जाता है, तो वहीं प्राकृतिक अक्षय ऊर्जा स्रोतों जैसे- सूर्य, पवन, जल, भूगर्भ और पादपों से प्राप्त ऊर्जा को नवीकरणीय ऊर्जा कहा जाता है। नवीकरणीय ऊर्जा का विश्लेषण करते हुए हम यह पाते हैं कि यह ऊर्जा का ऐसा स्थायी स्रोत है जो पर्यावरण और मानव स्वास्थ्य दोनों के लिये हानिकारक नहीं है। वर्तमान में विश्व की लगातार बढ़ रही जनसंख्या के कारण ईंधन की लागत में भी वृद्धि हो रही है और इसके समानांतर परंपरागत ऊर्जा स्रोतों में भी निरंतर कमी देखी जा रही है। ऐसे में सभी लोग ऊर्जा के वैकल्पिक स्रोत खोजने में जुट गए हैं। वस्तुतः जहाँ एक ओर भविष्य की अपार संभावनाओं से युक्त नवीकरणीय ऊर्जा आज की आवश्यकता बनती जा रही है, तो वहीं दूसरी ओर परमाणु ऊर्जा से हुई आपदाओं के उदाहरण भी सामने आते रहते हैं।

इस आलेख में परमाणु ऊर्जा व नवीकरणीय ऊर्जा का तुलनात्मक अध्ययन करते हुए भारत के संबंध में इसकी व्यवहार्यता का भी परीक्षण किया जाएगा।

मुद्दा क्या है?

परमाणु ऊर्जा

भारत में परमाणु ऊर्जा

परमाणु ऊर्जा का लाभ

परमाणु ऊर्जा से हानि

स्वच्छ ऊर्जा विकल्प

1970 के दशक में पर्यावरणविदों ने पारंपरिक ईंधन स्रोतों से हमारी निर्भरता को कम करने और उसके प्रतिस्थापन के रूप में नवीकरणीय ऊर्जा को बढ़ावा देना शुरू किया। 21वीं सदी की शुरुआत में दुनिया की ऊर्जा खपत का 20 प्रतिशत नवीकरणीय ऊर्जा से प्राप्त होने लगा था। ध्यातव्य है कि पिछले कुछ वर्षों में भारत ने भी अपनी बिजली उत्पादन क्षमता में काफी वृद्धि किया है। विगत तीन वर्षों में नवीकरणीय स्रोतों से प्राप्त होने वाली ऊर्जा में लगभग 25 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है।

क्या है नवीकरणीय ऊर्जा?

नवीकरणीय ऊर्जा विकल्प बेहतर क्यों हैं?

भारत में नवीकरणीय ऊर्जा की स्थिति

नवीकरणीय ऊर्जा विकल्प लोकप्रिय क्यों नहीं हैं?

नवीकरणीय ऊर्जा ही भविष्य का एकमात्र विकल्प क्यों है?

आगे की राह

प्रश्न- भारत की नवीकरणीय ऊर्जा उत्पादन क्षमता पर चर्चा करें। आप इस कथन से कहाँ तक सहमत हैं कि नवीकरणीय ऊर्जा, परमाणु ऊर्जा का एक बेहतर विकल्प है? विश्लेषण करें।