डेली अपडेट्स

मुद्रास्फीति और भारतीय अर्थव्यवस्था | 16 Jan 2020 | भारतीय अर्थव्यवस्था

इस Editorial में The Hindu, The Indian Express, Business Line आदि में प्रकाशित लेखों का विश्लेषण किया गया है। इस लेख में केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय द्वारा जारी हालिया मुद्रास्फीति दर से संबंधित आँकड़ों और उनके विभिन्न महत्त्वपूर्ण पहलुओं पर चर्चा की गई है। आवश्यकतानुसार, यथास्थान टीम दृष्टि के इनपुट भी शामिल किये गए हैं।

संदर्भ

केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (CSO) ने हाल ही में दिसंबर 2019 के लिये उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (CPI) पर आधारित मुद्रास्फीति या महँगाई दर के आँकड़े जारी किये हैं। आँकड़ों के मुताबिक इस अवधि में CPI आधारित देश की मुद्रास्फीति दर 7.35 प्रतिशत रही, जो कि दिसंबर (2018) में 2.11 प्रतिशत और नवंबर (2019) में 5.54 प्रतिशत थी। दिसंबर (2019) में देश की मुद्रास्फीति दर बीते 65 महीनों के उच्च स्तर पर पहुँच गई है, इससे पूर्व जुलाई 2014 में मुद्रास्फीति दर में 7.39 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई थी। मंदी के दौर से गुज़र रही भारतीय अर्थव्यवस्था के लिये मुद्रास्फीति संबंधी हालिया आँकड़े किसी भयावह स्थिति से कम नहीं हैं। ऐसे में उक्त आँकड़ों का विश्लेषण कर यह जानना आवश्यक है कि इसका आम जनमानस के जीवन पर क्या प्रभाव पड़ सकता है।

क्या कहते हैं CSO के हालिया आँकड़े?

मुद्रास्फीति

मुद्रास्फीति में बढ़ोतरी के कारण?

हेडलाइन और कोर मुद्रास्फीति में अंतर

सामान्य शब्दों में कहा जा सकता है कि हेडलाइन मुद्रास्फीति, मुद्रास्फीति का प्राकृतिक आँकड़ा होता है जो कि उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (CPI) के आधार पर तैयार की जाती है। हेडलाइन मुद्रास्फीति में खाद्य एवं ईंधन की कीमतों में होने वाले उतार-चढ़ाव को भी शामिल किया जाता है, जबकि कोर मुद्रास्फीति में खाद्य एवं ईंधन की कीमतों में होने वाले उतार-चढ़ाव को शामिल नहीं किया जाता है। दरअसल, कोर मुद्रास्फीति के आकलन में वैसे मदों पर ध्यान नहीं दिया जाता है जो किसी अर्थव्यवस्था में मांग और उत्पादन के पारंपरिक ढाँचे के बाहर हों, जैसे- पर्यावरणीय समस्याओं के कारण उत्पादन में देखी जाने वाली कमी।

क्या होगा प्रभाव?

मुद्रास्फीति जनित मंदी का खतरा

आगे की राह

प्रश्न: मुद्रास्फीति को परिभाषित करते हुए मुद्रास्फीति से संबंधित केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय द्वारा जारी हालिया आँकड़ों के आलोक में इसके प्रभावों पर चर्चा कीजिये।