डेली अपडेट्स

विद्युत चालित वाहनों का विकास | 27 Nov 2020 | विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी

इस Editorial में The Hindu, The Indian Express, Business Line आदि में प्रकाशित लेखों का विश्लेषण किया गया है। इस लेख में पर्यावरण संबंधी चुनौतियों से निपटने में विद्युत चालित वाहनों की भूमिका और देश में उनके विकास के साथ इससे संबंधित विभिन्न पहलुओं पर चर्चा की गई है। आवश्यकतानुसार, यथास्थान टीम दृष्टि के इनपुट भी शामिल किये गए हैं।

संदर्भ:

हाल ही में यूनाइटेड किंगडम (UK) की सरकार ने वर्ष 2030 से अपने देश में नए पेट्रोल और डीज़ल चालित वाहनों की बिक्री को प्रतिबंधित करने का निर्णय लिया है। साथ ही इस ग्रीन एजेंडे के तहत यूके सरकार द्वारा देश में इलेक्ट्रिक वाहनों या ईवी (Electric Vehicle- EV) के लिये एक सक्षम बुनियादी ढाँचे की स्थापना का प्रयास किया जा रहा है। यूके सरकार का यह बड़ा कदम विश्व में उर्जा को लेकर चलाए जा रहे हरित आंदोलन की लहर पर एक व्यापक प्रभाव डाल सकता है। भारत में भी सरकार जीवाश्म ईंधन से चलने वाले वाहनों को बदलने के लिये उत्सुक है। इसकी शुरुआत वर्ष 2017 में सरकार द्वारा वर्ष 2030 तक पूर्णरूप से 100% इलेक्ट्रिक कारों के  एक महत्त्वाकांक्षी लक्ष्य के निर्धारण के साथ की गई। हालाँकि, ऑटोमोबाइल उद्योग के प्रतिरोध और भारी संख्या में नौकरियों की क्षति की आशंका के कारण सरकार को अपने लक्ष्य कम करने के लिये विवश होना पड़ा। परंतु अभी भी ईवी अवसंरचना तंत्र की स्थापना में सरकार के प्रत्यक्ष समर्थन और उद्योग तथा ग्राहकों को आर्थिक सहायता प्रदान किये बगैर ऑटोमोबाइल क्षेत्र में कोई बड़ा बदलाव लाना बहुत ही कठिन होगा।

इलेक्ट्रिक वाहनों की आवश्यकता क्यों?  

चुनौतियाँ: 

भारत सरकार की वर्तमान नीतियाँ : 

आगे की राह:   

बहुपक्षीय प्रयास:  

निष्कर्ष:    

लगभग 1.3 बिलियन की आबादी वाले देश में पारंपरिक परिवहन से इलेक्ट्रिक वाहनों की ओर स्थानांतरण एक आसान कार्य नहीं है। ऐसे में देश में इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने के लिये एक मज़बूत दृष्टिकोण के साथ राज्य की नीतियों की तुलना के लिये एक निष्पक्ष रूपरेखा और सार्वजनिक-निजी सहयोग को प्रोत्साहित करने के लिये एक मंच स्थापित किया जाना बहुत ही आवश्यक होगा।  

Market-size

अभ्यास प्रश्न:  हाल के दशकों में परिवहन से होने वाले प्रदूषण और जलवायु परिवर्तन जैसी समस्याओं में वृद्धि के बीच विद्युत चालित या इलेक्ट्रिक वाहनों को इसके समाधान के एक विकल्प के रूप में देखा जा रहा है। इस संदर्भ में भारतीय बाज़ार में इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने से जुडी चुनौतियों और इसके समाधान के संभावित प्रयासों पर चर्चा कीजिये।