डेली अपडेट्स

डिजिटल डिवाइड: कारण और समाधान | 28 Apr 2020 | विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी

इस Editorial में The Hindu, The Indian Express, Business Line आदि में प्रकाशित लेखों का विश्लेषण किया गया है। इस लेख में डिजिटल डिवाइड व उससे संबंधित विभिन्न पहलुओं पर चर्चा की गई है। आवश्यकतानुसार, यथास्थान टीम दृष्टि के इनपुट भी शामिल किये गए हैं।

संदर्भ 

डिजिटलीकरण के दौर में इंटरनेट संचार और सूचना प्राप्ति का एक अत्यंत महत्त्वपूर्ण ज़रिया बन गया है। दशकों पूर्व इंटरनेट तक पहुँच को विलासिता का सूचक माना जाता था, परंतु वर्तमान में इंटरनेट सभी की ज़रूरत बन गया है। इसकी उपयोगिता का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि COVID-19 जैसी वैश्विक महामारी के दौरान प्रभावित लोगों तक प्रशासनिक मदद व खाद्य सामग्री पहुँचाने का कार्य प्रभावी रूप से डिजिटल माध्यम के द्वारा किया जा रहा है। 

इस वैश्विक संकट में डिजिटल माध्यम लाखों नागरिकों के लिये एक शक्तिशाली उपकरण के रूप में उभरा हैडिजिटल माध्यम से सहायता का यह रूप चाहे हेल्पलाइन नंबर के रूप में हो या आरोग्य सेतु एप के रूप में हो, जन सरोकार व स्वास्थ्य की दिशा में उपयोगी साबित हो रहे हैंडिजिटल साक्षरता के महत्त्व को देखते हुए ही भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत आने वाले निजता के अधिकार और शिक्षा के अधिकार का एक हिस्सा बनाते हुए इंटरनेट तक पहुँच के अधिकार को मौलिक अधिकार घोषित किया है।

इस आलेख में डिजिटल डिवाइड (Digital Divide), भारत के डिजिटलीकरण के समक्ष चुनौतियाँ और संभावित समाधानों पर विमर्श करने के साथ ही इंटरनेट के महत्त्व और डिजिटल साक्षरता की उपयोगिता पर भी चर्चा की जाएगी।

क्या है डिजिटल डिवाइड?

डिजिटलीकरण में इंटरनेट का महत्त्व

भारत में डिजिटलीकरण के समक्ष चुनौतियाँ

डिजिटल साक्षरता

(Digital Literacy)

डिजिटल डिवाइड दूर करने हेतु सरकार के प्रयास

राष्ट्रीय डिजिटल साक्षरता मिशन

राष्ट्रीय डिजिटल संचार नीति-2018  

आगे की राह 

प्रश्न- डिजिटल डिवाइड से आप क्या समझते हैं? भारत में डिजिटलीकरण के समक्ष मौज़ूदा चुनौतियों का उल्लेख करते हुए बताएँ कि डिजिटल डिवाइड को दूर करने में सरकार क्या प्रयास कर रही है।