डेली अपडेट्स

बिम्सटेक के संदर्भ में पारिस्थितिक दृष्टिकोण | 30 Mar 2022 | अंतर्राष्ट्रीय संबंध

यह एडिटोरियल 29/03/2022 को ‘द हिंदू’ में प्रकाशित “A Subregional Grouping That Must Get Back On Course” लेख पर आधारित है। इसमें बंगाल की खाड़ी क्षेत्र में उत्पन्न हो रही पारिस्थितिक चिंताओं के बारे में चर्चा की गई है।

संदर्भ

बहु-क्षेत्रीय तकनीकी और आर्थिक सहयोग के लिये बंगाल की खाड़ी पहल/बिम्सटेक (The Bay of Bengal Initiative for Multi-Sectoral Technical and Economic Cooperation- BIMSTEC) सात देशों का एक समूह है जो दक्षिण एशिया में क्षेत्रीय सहयोग हेतु एक पसंदीदा मंच के रूप में उभरा है। उल्लेखनीय है कि दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संघ (South Asian Association of Regional Cooperation- SAARC) द्वारा अपने सदस्य देशों के बीच आपसी सहयोग सुनिश्चित कर सकने में विफलता के बाद इस नए मंच की आवश्यकता महसूस की गई थी।

बिम्सटेक वृहत हिमालय और बंगाल की खाड़ी के पारितंत्रों को आपस में संबद्ध करता है। हालाँकि पिछले कई वर्षों से बिम्सटेक देश विभिन्न जलवायु और पारिस्थितिकी संबंधी चुनौतियों का सामना कर रहे हैं जो सदस्य देशों के बीच समन्वय की कमी के कारण अभी तक संबोधित नहीं किये जा सके हैं। बिम्सटेक का आगामी शिखर सम्मेलन एक अवसर हो सकता है जहाँ क्षेत्र के नेता अपने सामान्यीकृत वक्तव्यों से आगे बढ़ते हुए भू-भाग के समक्ष विद्यमान प्रमुख चुनौतियों का समाधान करने के लिये ठोस कदम उठाने पर विचार कर सकते हैं।

बिम्सटेक के बारे में 

BOBMD के बारे में: 

BOBMD द्वारा रेखांकित किये गए प्रमुख मुद्दे

आगे की राह 

निष्कर्ष

बंगाल की खाड़ी क्षेत्र के सामने विद्यमान चुनौतियों को संबोधित करने में अब और देरी नहीं करनी चाहिये। इससे पहले कि बहुत देर हो जाए बिम्सटेक को सक्रिय होने और कार्रवाई करने की ज़रूरत है। आगामी शिखर सम्मेलन को तय किया जाना चाहिये कि अधिकारियों की नियमित रूप से बैठक आयोजित करती चाहिये जो वैज्ञानिकों एवं विशेषज्ञों द्वारा समर्थित हो ताकि अवैध एवं असंवहनीय मत्स्य ग्रहण पर नियंत्रण के साथ ही बंगाल की खाड़ी क्षेत्र में पर्यावरणीय क्षरण की समस्या को संबोधित किया जा सके।

अभ्यास प्रश्न: बंगाल की खाड़ी क्षेत्र में उत्पन्न हो रही पर्यावरणीय और पारिस्थितिक चिंताओं को देखते हुए आवश्यक है कि बिम्सटेक अपने सदस्य देशों की अधिक गंभीर और नियमित संलग्नता की ओर आगे बढ़े। टिप्पणी कीजिये।