डेली अपडेट्स

भारतीय विज्ञान और टेक्नोलॉजी का बढ़ता नेतृत्व | 11 Jun 2018 | प्रौद्योगिकी

चर्चा में क्यों?

विज्ञान और प्रौद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय द्वारा पिछले चार वर्षों की उपलब्धियों के बारे में जानकारी दी गई है। सरकार पिछले चार वर्षों के दौरान समग्र वैज्ञानिक पारिस्थितिक तंत्र बनाने का काम करती रही है। इसमें प्रौद्योगिकी विकास, प्रौद्योगिकी हस्तांतरण, नवाचार और स्टार्टअप के लिये स्वदेशी प्रौद्योगिकी के व्यावसायीकरण को सक्षम बनाने के लिये अनुवाद अनुसंधान हेतु प्रभावशाली बुनियादी शोध की गुणवत्ता और मात्रा में वृद्धि शामिल है। 

महत्त्वाकांक्षी मिशनों को लॉन्च करने की तैयारी

हर क्षेत्र में विज्ञान का बढ़ता योगदान

उल्लेखनीय अंतर्राष्ट्रीय सहयोग
विश्व में सर्वश्रेष्ठ के साथ विज्ञान और टेक्नोलॉजी सहयोग हमारे वैज्ञानिक समुदाय और अनुसंधान एवं विकास संस्थानों को काफी लाभ प्रदान करेगा। पिछले चार वर्षों के दौरान हुए कुछ उल्लेखनीय अंतर्राष्ट्रीय सहयोग हैं: 

विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में निवेश में वृद्धि

पिछले चार वर्षों की उल्लेखनीय उपलब्धियाँ

फसल उत्पादकता में सुधार

मौसम एवं समुद्र पूर्वानुमान सेवाओं की गुणवत्‍ता में उल्‍लेखनीय सुधार 

पाला प्रतिरोधी उन्‍नत सांबा महसूरी चावल 

स्वच्छ ऊर्जा के विकास पर ज़ोर  

सुरक्षित पेयजल के लिये कार्यक्रम
देश के कई क्षेत्र जल संकट झेल रहे हैं और पानी की खराब गुणवत्‍ता का सामना कर रहे हैं। मंत्रालय ने पिछले चार वर्षों में सस्‍ती दर पर सुरक्षित पेयजल के लिये कई कार्यक्रमों की शुरूआत की है। इसके लिये स्‍वदेशी तकनीक विकसित की गई है।     

स्‍टार्ट-अप इकोसिस्‍टम में विस्तार

क्षमता निर्माण में वृद्धि