डेली अपडेट्स

लॉकडाउन के दौरान अवैध शिकार में वृद्धि | 05 Jun 2020 | जीव विज्ञान और पर्यावरण

प्रीलिम्स के लिये:

वर्ल्ड वाइड फंड फॉर नेचर-इंडिया ,वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम, 1972

मेन्स के लिये:

लॉकडाउन के दौरान अवैध शिकार में वृद्धि से संबंधित मुद्दे 

चर्चा में क्यों?

वर्ल्ड वाइड फंड फॉर नेचर-इंडिया (World Wide Fund for Nature-India) द्वारा जारी एक रिपोर्ट के अनुसार, COVID-19 के प्रसार को रोकने हेतु देशभर में  लगाए गए लॉकडाउन के दौरान वन्यजीवों के शिकार में वृद्धि हुई है। 

प्रमुख बिंदु:

छोटे वन्यजीवों का शिकार:

वन्यजीव (संरक्षण) अधिनियम, 1972

[The wildlife (Protection) Act,1972]:

वर्ल्ड वाइड फंड फॉर नेचर-इंडिया (World Wide Fund for Nature-India)

  • वर्ल्ड वाइड फंड फॉर नेचर-इंडिया की स्थापना 27 नवंबर, 1969 को एक चैरीटेबल ट्रस्ट के रूप में की गई थी। 
  • इसका उद्देश्य पृथ्वी के प्राकृतिक पर्यावरण में ह्रास को रोकते हुए प्रकृति के साथ मानव जीवन को सौहार्दपूर्ण बनाना है। 
  • वर्ष 1987 में वर्ल्ड वाइड फंड फॉर नेचर- इंडिया की संरचना को नया रूप दिया गया। 
  • वर्ल्ड वाइड फंड फॉर नेचर-इंडिया एक रचनात्मक व विज्ञान आधारित संगठन है।  
  •  वर्ल्ड वाइड फंड फॉर नेचर-इंडिया के उद्देश्य इस प्रकार हैं-
    • विश्व की जैव विविधता का संरक्षण करना।
    • यह सुनिश्चित करना कि गैर-परंपरागत प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग ही संपोषणीय है।
    • प्रदूषण में कमी एवं अनावश्यक उपभोग में कमी को बढ़ावा देना।

आगे की राह:

स्रोत: इंडियन एक्सप्रेस