डेली अपडेट्स

तीस्ता नदी जल विवाद और भारत-बांग्लादेश संबंध | 21 Aug 2020 | अंतर्राष्ट्रीय संबंध

प्रिलिम्स के लिये

तीस्ता नदी, नदी जल विवाद

मेन्स के लिये

तीस्ता नदी जल विवाद और भारत-बांग्लादेश संबंध

चर्चा में क्यों?

तीस्ता नदी (Teesta River) के प्रबंधन संबंधी एक परियोजना के लिये बांग्लादेश चीन से लगभग 1 अरब डॉलर के ऋण पर चर्चा कर रहा है। ध्यातव्य है कि भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता नदी में पानी के बँटवारे को लेकर लंबे समय से विवाद चल रहा है। ऐसे में इस वार्ता के निहितार्थ तथा भारत-बांग्लादेश के संबंधों पर इसके प्रभाव का अध्ययन करना आवश्यक है।

प्रमुख बिंदु

तीस्ता नदी जल विवाद

भारत-बांग्लादेश संबंध: हालिया परिदृश्य

NRC और CAA को लेकर चिंता

  • भारत-बांग्लादेश के संबंध भले ही शुरुआत से बहुत अच्छे रहे हों, परंतु बीते कुछ वर्षों में इनमें कुछ तनाव भी आया है, जिसमें प्रस्तावित देशव्यापी राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) और बीते वर्ष दिसंबर माह में पारित हुआ नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) ने महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा की है।
  • बीते दिनों बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) को लेकर संदेह व्यक्त करते हुए कहा था कि ‘हालाँकि CAA और NRC भारत के आंतरिक विषय हैं, किंतु CAA का कदम आवश्यक है।’
  • बीते वर्ष जब बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना भारत के दौरे पर आई थीं, तो दोनों देशों के प्रतिनिधियों की बैठक के दौरान NRC भी चर्चा की गई थी और बांग्लादेशी पक्ष ने NRC के संबंध में अपनी चिंताएँ भी ज़ाहिर कीं। इस विषय पर भारतीय प्रधानमंत्री ने यह भरोसा दिया था कि बांग्लादेश पर NRC का प्रभाव नहीं पड़ेगा और यह भारत का आंतरिक विषय है।


चीन-बांग्लादेश संबंधों का विकास

आगे की राह

स्रोत: इंडियन एक्सप्रेस