Study Material | Test Series
Drishti


 दृष्टि का नया टेस्ट सीरीज़ सेंटर  View Details

सेमिनार: अंग्रेज़ी सीखने का अवसर (23 सितंबर: दोपहर 3 बजे)
बी.पी.एस.सी. - विज्ञप्ति का संक्षिप्त विवरण

बिहार लोक सेवा आयोग (बी.पी.एस.सी.), पटना द्वारा आयोजित विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के लिये सर्वप्रथम इनसे सम्बंधित ‘विज्ञप्ति’ जारी की जाती है, उसके पश्चात् ऑनलाइन आवेदन फॉर्म भरने की प्रक्रिया शुरू होती है। इस ‘विज्ञप्ति’ में फॉर्म भरने की प्रक्रिया से लेकर अंतिम चयन तक के समस्त पहलुओं का विस्तृत विवरण दिया रहता है, इसलिये अभ्यर्थियों को इसका अध्ययन अवश्य कर लेना चाहिये, जिससे कि वे इन परीक्षाओं की प्रकृति से भली-भाँति परिचित हो जाएँ और अपने आपको मानसिक रूप से शुरुआत से ही इसके अनुरूप तैयार कर लें। इस विज्ञप्ति से सम्बंधित कुछ महत्त्वपूर्ण एवं अनिवार्य पहलुओं का विवरण नीचे दिया गया है- 

पदों का विवरण: 

संयुक्त प्रारंभिक प्रतियोगिता परीक्षा में सम्मिलित होने वाले उम्मीदवारों से निम्नांकित सेवाओं/पदों के लिये आवेदन-पत्र आमंत्रित किये जाते हैं।

क्र. सं. पद का नाम
1. बिहार प्रशासनिक सेवा (अनुमंडल पदाधिकारी/वरीय उप समाहर्ता एवं समकक्ष)
2. बिहार पुलिस सेवा (पुलिस उपाधीक्षक)
3. बिहार वित्त सेवा (वाणिज्यकर पदाधिकारी)
4. ज़िला समादेष्टा (गृह रक्षा वाहिनी संगठन)
5. उत्पाद निरीक्षक
6. बिहार प्रोबेशन सेवा (प्रोबेशन पदाधिकारी)
7. ग्रामीण विकास पदाधिकारी
8. ज़िला अल्पसंख्यक कल्याण पदाधिकारी
9. नियोजन पदाधिकारी/ज़िला नियोजन पदाधिकारी
10. बिहार निबंधन सेवा (अवर निबंधक)
11. बिहार श्रम सेवा (श्रम अधीक्षक)
12. ईख पदाधिकारी
13. बिहार निर्वाचन सेवा (अवर निर्वाचन पदाधिकारी)
14. ज़िला अंकेक्षण पदाधिकारी सहयोग समितियाँ
15. सहायक, निबंधक सहयोग समितियाँ
16. राजस्व अधिकारी

नोटः  सेवाओं एवं पदों की संख्या घट-बढ़ सकती है।

शैक्षिक योग्यता :  

ऑनलाइन आवेदन भरने की अंतिम तिथि तक आवेदक को केन्द्र अथवा राज्य सरकार द्वारा स्थापित संस्था/मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से किसी संकाय में कम-से-कम स्नातक अथवा समकक्ष परीक्षाओं में उत्तीर्ण होना अनिवार्य है। 

आरक्षण: 

    • आरक्षण की सुविधा उन्हीं उम्मीदवारों को मिलेगी, जिनका स्थायी निवास बिहार राज्य है अर्थात् जो बिहार के मूल वासी हैं। बिहार राज्य के बाहर के निवासी (अभ्यर्थी) को आरक्षण का लाभ नहीं मिलेगा। 
    • ऑनलाइन आवेदन पत्र के इंगित कॉलम में आरक्षण का दावा नहीं करने पर आरक्षण का लाभ नहीं मिलेगा।
    • आरक्षित कोटि के उम्मीदवार अपनी जाति के अनुरूप आरक्षण कोड के संबंध में पूर्ण रूप से संतुष्ट होने के पश्चात् ही आरक्षण कोड का अंकन ऑनलाइन आवेदन से संबंधित कॉलम में करेंगे। किसी प्रकार की त्रुटि होने पर आरक्षण का दावा मान्य नहीं होगा।
    • सामान्य प्रशासन विभाग बिहार सरकार के परिपत्र सं. 673, दिनांक 08.03.2011 के आलोक में ऑनलाइन आवेदन करते समय आरक्षण का दावा करने वाले अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के उम्मीदवार के पास निम्नांकित प्रमाण पत्र अनिवार्य रूप से होने चाहिये।
      a. जाति प्रमाणपत्र
      b. स्थायी निवास (डोमिसाइल) प्रमाणपत्र
    • इसी  प्रकार ऑनलाइन आवेदन करते समय आरक्षण का दावा करने वाले पिछड़ी जाति एवं अत्यंत पिछड़ी जाति के उम्मीदवारों के पास निम्नांकित प्रमाणपत्र अनिवार्य रूप से होने चाहिये-
      a. जाति प्रमाणपत्र
      b. स्थायी निवास प्रमाणपत्र
      c. क्रीमीलेयर रहित प्रमाणपत्र
    • पिछड़ा वर्ग एवं अत्यंत पिछड़ा वर्ग की दशा में, अपने स्थायी अधिवास अंचल के राज्य सरकार द्वारा अधिसूचित अंचलाधिकारी द्वारा निर्गत क्रीमीलेयर रहित प्रमाणपत्र, जाति प्रमाणपत्र एवं स्थायी निवास प्रमाणपत्र एवं अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति की दशा में, अपने स्थायी अधिवास अंचल के राज्य सरकार द्वारा अधिसूचित अंचलाधिकारी के द्वारा निर्गत स्थायी निवास प्रमाणपत्र एवं जाति प्रमाणपत्र मान्य होगा।
    • ऑनलाइन आवेदन करते समय विकलांगता के आधार पर आरक्षण का दावा करने वाले विकलांग उम्मीदवार के पास सक्षम प्राधिकार द्वारा विहित प्रपत्र में निर्गत निःशक्तता (विकलांगता) प्रमाण पत्र निश्चित रूप से उपलब्ध होना चाहिये ताकि किसी भी समय आयोग द्वारा उसकी मांग किये जाने पर उम्मीदवार उसे प्रस्तुत कर सके।
    • सामान्य प्रशासन विभाग के ज्ञापांक 16144, दिनांक 28.11.2012 के आलोक में नियुक्ति की जारी प्रक्रिया के बीच आरक्षण कोटि में सुधार/बदलाव नहीं किया जा सकता है।
    • भूतपूर्व स्वतंत्रता सेनानियों के नाती/नातिन/पोता/पोती के लिये 2% क्षैतिज आरक्षण देय है। ऐसे आरक्षण का दावा करने वाले अभ्यर्थियों को ऑनलाइन आवेदन करते समय अपने गृह ज़िला के ज़िला पदाधिकारी या उनके द्वारा प्राधिकृत पदाधिकारी के हस्ताक्षर से निर्गत (भूतपूर्व स्वतंत्रता सेनानी के नाती/नातिन/पोता/पोती होने का) प्रमाणपत्र निश्चित रूप से उपलब्ध होना चाहिये।

आयु सीमा:

    • अनारक्षित (पुरुष)- 37  वर्ष।
    • अनारक्षित (महिला), पिछड़ा वर्ग एवं अत्यंत पिछड़ा वर्ग (पुरुष एवं महिला)- 40 वर्ष।
    • अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (पुरुष एवं महिला)- 42 वर्ष।
    • ऐसे सरकारी सेवक जो तीन वर्षों की निरंतर सेवा पूर्ण कर चुके हों, को उच्चतर वेतनमान की सेवा/सम्वर्ग में जाने के लिये अधिकतम आयु सीमा में 05 वर्षों की छूट तथा इस परीक्षा सहित, प्रारंभिक परीक्षा में भाग लेने के कुल 3 अवसर अनुमन्य हैं।  
    • विकलांगों को यथा संशोधित अधिकतम आयु सीमा के अतिरिक्त विकलांगता के आधार पर अधिकतम उम्र सीमा में 10 वर्षों की छूट अनुमन्य है।
    • जो उम्मीदवार बिहार सरकारी सेवा में हैं तथा सम्पुट हैं, वे उम्र सीमा के अंदर रहने पर भी बिहार पुलिस सेवा, बटालियन कमांडर (गृह रक्षा वाहिनी) एवं बिहार कारा सेवा में नियुक्ति के पात्र नहीं होंगे।
    • 1 जनवरी, 1963 के बाद एन.सी.सी. में भर्ती किये गए पूर्णकालिक कैडेट/अनुदेशकों को एन.सी.सी. से विमुक्त हो जाने के बाद राज्य सरकार के अधीन ऊपर कंडिका 1 में उल्लिखित सेवाओं में पदों पर नियुक्ति के लिये अपनी वास्तविक उम्र से उतने दिन घटाने की अनुमति दी जाएगी, जितने दिनों तक उन्होंने एन.सी.सी. में पूर्णकालिक सेवा की हो और यदि परिणामी उम्र, किसी विशिष्ट सेवा या पद के लिये विहित ऊपरी उम्र सीमा से तीन वर्ष से अधिक न हो, तो उनके संबंध में यह माना जाएगा कि वे उन सेवाओं में या पदों पर नियुक्ति के लिये अधिकतम उम्र की शर्तें पूरी करते हैं।
    • भूतपूर्व सैनिकों एवं कमीशंड ऑफिसर्स (ई.सीओज़/एस.एफ.सीओज़ सहित) श्रेणी के पदाधिकारी भी संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा के आधार पर भरे जाने वाले पदों के लिये आवेदन दे सकते हैं। ऐसे पदों पर उच्चतम आयु सीमा में 5 वर्षों तक आयु शिथिलीकरण का लाभ उन्हीं भूतपूर्व सैनिकों एवं कमीशंड ऑफिसर्स (ईसीओज/एस.एफ.सीओज सहित) को अनुमन्य होगा जिन्होंने कम-से-कम 5 वर्षों की लगातार सैनिक सेवा पूरी की हो एवं शर्त समाप्ति के बाद सैनिक सेवा से विमुक्त हो गए हों, अथवा छह महीने के भीतर विमुक्त होने वाले हों, बशर्तें कि ऐसी विमुक्ति कदाचार, अयोग्यता, शारीरिक अक्षमता अथवा अपंगता के परिणामस्वरूप नहीं हुई हो।
    • ऐसे भूतपूर्व सैनिक (ई.सीओज़/एस.एफ.सीओज़ सहित) जो अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के सदस्य हैं, उनके लिये अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति को राज्य सरकार की सेवा में सीधी नियुक्ति के लिये उच्चतम आयु सीमा में शिथिलीकरण का जो लाभ दिया गया है, उसका समावेश विचाराधीन छूट में कर लिया जाएगा। पूर्व में दी गई छूट के अतिरिक्त विचाराधीन छूट अनुमन्य नहीं होगी। अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के भूतपूर्व सैनिक एवं कमीशंड ऑफिसर्स (ई.सीओज़/एस.एफ. सीओज़ सहित) की कारा सेवा हेतु अधिकतम उम्र सीमा तीन वर्ष तथा अन्य सेवाओं के लिये पाँच वर्ष अधिक होगी।
    • सैन्य सेवा से विमुक्त उम्मीदवार सक्षम पदाधिकारी से सैन्य सेवा से विमुक्त होने का प्रमाण पत्र साक्षात्कार के समय अनिवार्य रूप से प्रस्तुत करेंगे, अन्यथा उनकी उम्मीदवारी निरस्त कर दी जाएगी।

उक्त परीक्षा में न्यूनतम उम्र सीमा निम्न प्रकार निर्धारित है-

    • पदों के विवरण सम्बंधित तालिका में अंकित सेवाओं में क्रम संख्या 1, क्रम संख्या 4 से क्रम संख्या 12 तक एवं क्रम संख्या 14 की सेवाओं के लिये 22 वर्ष ।
    • बिहार आरक्षी सेवा, बटालियन कमांडर (गृह रक्षा वाहिनी) एवं उत्पाद निरीक्षक पद हेतु 20 वर्ष।

शारीरिक क्षमता : 

  • बिहार पुलिस सेवा तथा बटालियन कमांडर (गृह रक्षा वाहिनी) के उम्मीदवारों की न्यूनतम ऊँचाई 5 फीट 5 इंच तथा छाती की माप बिना फुलाए 32 इंच होनी चाहिये। 
  • अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति के उम्मीदवारों के प्रसंग में उपर्युक्त शारीरिक माप के उम्मीदवार उपलब्ध नहीं होने पर उनकी न्यूनतम ऊँचाई 5 फीट 3 इंच तथा छाती की माप, बिना फुलाए, 31 इंच होनी चाहिये।
  • महिलाओं की न्यूनतम ऊँचाई 5 फीट 2 इंच होनी चाहिये।
प्रारंभिक परीक्षा का पाठ्यक्रम
मुख्य परीक्षा का पाठ्यक्रम

 


Helpline Number : 87501 87501
To Subscribe Newsletter and Get Updates.