Study Material | Test Series
Drishti


 Study Material for Civil Services Exam  View Details

ग्रेफीन आधारित बैटरी 
Dec 06, 2017

सामान्य अध्ययन प्रश्नपत्र - 3 : विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, आर्थिक विकास, जैव विविधता, पर्यावरण, सुरक्षा तथा आपदा प्रबंधन
(खंड -11 : विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी-विकास एवं अनुप्रयोग और रोज़मर्रा के जीवन पर इसका प्रभाव)
(खंड -13 : सूचना प्रौद्योगिकी, अंतरिक्ष, कंप्यूटर, रोबोटिक्स, नैनो-टेक्नोलॉजी, बायो-टेक्नोलॉजी और बौद्धिक संपदा अधिकारों से संबंधित विषयों के संबंध में जागरूकता)

  Graphene-Based Battery

चर्चा में क्यों?
हाल ही में वैज्ञानिकों द्वारा लिथियम आयन बैटरी की तुलना में पाँच गुना तेज गति से कार्य करने वाली एक  नई ग्रेफीन आधारित बैटरी विकसित की गई है।

उपयोग

  • दक्षिण कोरिया में सैमसंग एडवांस्ड इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एसएआईटी) के शोधकर्त्ताओं द्वारा विकसित इस बैटरी का उपयोग अगली पीढ़ी के मोबाइल के साथ – साथ इलेक्ट्रिक वाहनों हेतु किया जा सकता है।

प्रमुख विशेषताएँ

  • मानक लिथियम बैटरी को पूरी तरह से चार्ज करने में कम से कम एक घंटा (त्वरित चार्जिंग तकनीक के साथ भी) लगता है। इस प्रक्रिया को और अधिक गति प्रदान करने के उद्देश्य से ही शोधकर्त्ताओं द्वारा नए विकल्पों की दिशा में कार्य करना शुरू किया गया है।

  Graphene-Based Battery

  • ग्रेफीन में निहित सामग्री के विषय में यह पाया गया कि यह एक उच्च शक्ति और चालकता वाली सामग्री है। इसके इसी गुण के कारण यह शोध का प्राथमिक स्रोत बना है। 
  • शोधकर्त्ताओं द्वारा प्रदत्त जानकारी के अनुसार, सैधांतिक रूप में, "ग्रेफीन बॉल" (graphene ball) सामग्री पर आधारित बैटरी को पूरी तरह से चार्ज करने के लिये केवल 12 मिनट की आवश्यकता होती है।
  • पहले से ही इस "ग्रेफीन बॉल" का उपयोग एनोड सुरक्षात्मक परत और कैथोड सामग्री दोनों के लिये किया जाता रहा है। इससे न केवल बैटरी की चार्जिंग क्षमता में वृद्धि होती है बल्कि चार्जिंग में समय भी कम लगता है, साथ ही यह बैटरी के तापमान को भी स्थिर स्थिति में रखता है।
  • नेचर कम्युनिकेशंस (Nature Communications) जर्नल में प्रकाशित इस अध्ययन में शोधकर्त्ताओं द्वारा ग्रेफीन का इस्तेमाल किया गया तथा बड़े पैमाने पर इसे सिलिका के साथ उपयोग करके एक 3 डी रूप में संश्लेषित करने में सफलता हासिल की है।

और पढ़ें:

राष्ट्रीय इलेक्ट्रिक मोबिलिटी मिशन से उत्पन्न चुनौतियाँ एवं संभावनाएँ
पेसमेकर में प्रयुक्त होने वाली कठोर बैटरी का प्रभावी विकल्प है कार्बनिक बैटरी
विद्युत चालित वाहन (Electric vehicles: EVs) के फायदों के देखते हुए वर्तमान भारत सरकार इन वाहनों को बढ़ावा देने की योजना बना रही है। सरकार द्वारा इस दिशा में अब तक उठाए गए कदमों का उल्लेख कीजिये एवं बताएँ कि इन वाहनों को बढ़ावा देने के लिये और क्या-क्या प्रयास किये जाने चाहिये?
“भारतीय परिवहन क्षेत्र में स्वच्छ ईंधन व्यवस्था लागू करने में आ रही कठिनाइयों के लिये ऑटोमोबाइल उद्योग की अरुचि के साथ-साथ सरकार की नीतियों का भी दोष है।” इस कथन पर चर्चा करें।
ई-वाहनों के बजाय ई-परिवहन पर ध्यान केंद्रित करने की ज़रूरत

स्रोत : द हिंदू
source title : New graphene-based battery charges five times faster
source link : http://www.thehindu.com/sci-tech/technology/new-graphene-based-battery-charges-five-times-faster/article21266242.ece


Helpline Number : 87501 87501
To Subscribe Newsletter and Get Updates.